राजनांदगांव समाचार । कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी जयप्रकाश मौर्य ने आज जिला कार्यालय के सभाकक्ष में मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों की बैठक लेकर नगरीय निकाय आम चुनाव के संदर्भ में आदर्श आचरण संहिता समेत शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराने के लिए जारी समस्त दिशा-निर्देशों की जानकारी दी। राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों को राज्य चुनाव आयोग के नाम निर्देशन पत्र जमा करने से लेकर प्रचार-प्रसार, मतदान और मतगणना से संबंधित नियमों के बारे में बताया गया। कलेक्टर ने बताया कि चुनाव लडऩे के इच्छुक प्रत्याशी को बैंक में नया खाता खुलवाना पड़ेगा। इसी खाते पर चुनाव से संबंधी सारा लेन-देन करना होगा। कलेक्टर ने बैठक में राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों की विभिन्न शंकाओं, आशंकाओं और जिज्ञासाओं का समाधान किया। कलेक्टर ने सभी से शांतिपूर्ण, निर्विघ्न और निष्पक्ष निर्वाचन कराये जाने में प्रशासन का सहयोग करने की अपील की।कलेक्टर ने बैठक में कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा 25 नवम्बर से नगरीय निकाय आम निर्वाचन 2019 के कार्यक्रम की घोषणा कर दी गई है। इसके साथ ही राजनांदगांव जिले के 7 नगरीय निकाय क्षेत्रों में आदर्श आचार संहिता प्रभावशील हो गई है। इनमें नगर पालिक निगम राजनांदगांव, नगर पालिका परिषद डोंगरगढ़, नगर पंचायत गंडई, नगर पंचायत छुईखदान, नगर पंचायत डोंगरगांव, नगर पंचायत छुरिया तथा नगर पंचायत अंबागढ़ चौकी शामिल हैं। नगर पालिका परिषद खैरागढ़ का कार्यकाल पूरा नहीं होने के कारण यहां चुनाव नहीं हो रहा है। सभी 7 नगरीय निकायों में एक चरण में 21 दिसम्बर को मतदान संपन्न कराए जाएंगे। निर्वाचन दलीय आधार पर तथा मतपत्र मतपेटी के माध्यम से कराए जाएंगे। मतपत्र में फोटो तथा नोटा का भी उल्लेख होगा जो अंतिम अभ्यर्थी के बाद मुद्रित किया जाएगा।
निर्वाचन की अधिसूचना का प्रकाशन 30 नवम्बर को सुबह 10.30 बजे किया जाएगा। स्थानों के आरक्षण के संबंध में सूचना का प्रकाशन और मतदान केन्द्रों की सूची का प्रकाशन भी 30 नवम्बर को ही सुबह साढ़े 10 बजे किया जाएगा। 30 नवम्बर से ही नाम निर्देशन पत्र रिटर्निंग ऑफिसरों द्वारा लिया जाएगा। नामांकन पत्र जमा करने की अंतिम तिथि 6 दिसम्बर को दोपहर 3 बजे तक है। नाम निर्देशन पत्रों की जांच 7 दिसम्बर को सुबह 10 बजे से की जाएगी। नाम निर्देशन पत्रों की वापसी 9 दिसम्बर को दोहपर 3 बजे तक की जा सकती है। मतदान 21 दिसम्बर को सवेरे 8 बजे से शाम 5 बजे तक किया जाएगा। मतगणना 24 दिसम्बर को सवेरे 9 बजे से होगा।
जिले के 7 नगरीय निकायों के 150 वार्डों के लिए मतदान होगा। चुनाव के लिए 257 केंन्द्र बनाए गए हैं। सात नगरीय निकायों में कुल 1 लाख 89 हजार 073 मतदाता हैं। इनमें 91 हजार 927 पुरुष तथा 97 हजार 141 महिला एवं 5 मतदाता तृतीय लिंग समूह से हैं। कलेक्टर ने बताया कि नगरीय निकाय के पार्षद पद हेतु निर्वाचन लडऩे के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष होनी चाहिए। नगर पंचायत के पार्षद पद के लिए प्रतिभूति राशि 1 हजार रूपये, नगर पालिका परिषद के पार्षद पद के लिए 3 हजार रूपए तथा नगर पालिक निगम के पार्षद पद के लिए प्रतिभूति राशि 5 हजार रूपए है। अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग और महिला अभ्यर्थियों को प्रतिभूति राशि में 50 प्रतिशत की छूट रहेगी। कलेक्टर ने बताया कि नगरीय निकाय निर्वाचन व्यय का हिसाब देना पड़ेगा। नगर पालिका क्षेत्र में खर्च की अधिकतम सीमा डेढ़ लाख रूपए और नगर पंचायत क्षेत्र में अधिकतम 50 हजार रूपए खर्च सीमा है। 3 लाख जनसंख्या से कम वाले नगर पालिक निगम में 3 लाख रूपए तक की अधिकतम व्यय सीमा निर्धारित की गई है। बैठक में राजनीतिक दलों को बताया कि इस बार राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा ऑन लॉइन नामिनेशन की व्यवस्था प्रारंभ की गई है। ऑनलाईन नॉमिनेशन कॉमन सर्विस सेन्टर, लोक सेवा केन्द्र, निजी कम्प्यूटर सेन्टरों और व्यक्तिगत रूप से मोबाईल या कम्प्यूटर से भी नामांकन जमा किए जाएंगे। ऑन लॉइन नामिनेशन भरने के पश्चात उसे प्रिंट कराकर आवश्यक सभी दस्तावेजों के साथ रिटर्निंग ऑफिसर के समक्ष निर्धारित तिथि व समय में जमा किया जाना है। बैठक में बताया गया कि आचार संहिता को ध्यान में रखकर प्रचार-प्रसार करना है। पार्षद पद के प्रत्येक अभ्यर्थी दो एजेंट रखेंगे। इनमें एक मुख्य तथा एक सहायक एजेंट होंगे। ऑनलाईन नामांकन भरने के लिए बैंक खाता क्रमांक, नो-ड्यूस सर्टिफिकेट, प्रतिभूति राशि की रसीद और शपथ पत्र जमा करना है। अनुसूचित जाति, जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों को सक्षम प्राधिकारी (अनुविभागीय अधिकारी राजस्व) द्वारा जारी जाति प्रमाण पत्र जमा करना है। दलीय संबद्धता से संबंधित दस्तावेज भी अभ्यर्थियों को देना होगा। ऑनलाईन नामांकन वेबसाईट में भरे जाएंगे। नामांकन भरने मोबाईल नंबर जरूरी है। मोबाईल नंबर से ही पंजीयन होगा। मतदान मतपत्र से होगा। बैठक में बताया गया कि इस बार मतदान केन्द्र से 200 मीटर की दूरी के बाहर ही पंडाल लगेंगे। मतदान के लिए फोटोयुक्त परिचय पत्र जरूरी है। कलेक्टर ने राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों से अपील करते हुए कहा है कि उन्हें भी मतदाता जागरूकता के लिए गतिविधियां करनी चाहिए, ताकि अधिक से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग कर सकें। बैठक में बताया गया कि सरकारी एवं गैर-सरकारी भवनों तथा निजी भवनों में भवन मालिक की अनुमति के बिना निर्वाचन के प्रचार के दौरान राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता अथवा प्रत्याशी निर्वाचन संबंधी पोस्टर लगाना व नारा लिखने की कार्रवाई प्रतिबंधित है। बैठक में उप जिला निर्वाचन अधिकारी एवं अपर कलेक्टर ओंकार यदु भी उपस्थित थे। राज्य स्तरीय मास्टर ट्रेनर कैलाश शर्मा एवं दीपक ठाकुर ने कम्प्यूटर आधारित प्रस्तुतिकरण के जरिए राजनीतिक दलों को चुनाव से संबंधित महत्वपूर्ण बातें विस्तार से बताईं। बैठक में इंडियन नेशनल कांग्रेस के रूपेश दुबे, कुलबीर छाबड़ा, बसंत बहेकर, भारतीय जनता पार्टी के तरूण लहरवानी, विकास तिवारी, बहुजन समाज पार्टी के क्रांति कुमार फुले तथा दिनेश गढ़े उपस्थित थे

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें